निज चितवन

  • Home
  • निज चितवन
श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
29-10-17 05:00 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे शिष्यौतम! जो अपने को गुरु रूपी बंधन से बांध ल..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
28-10-17 07:01 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे विज्ञात्मन! तु निर्वाण पद अभी न पा सके तो नि..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
27-10-17 07:03 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे विरात्मन ! जीवन का बड़ा ही मार्मिक एवं सवेदनश..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
26-10-17 07:06 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे ज्ञानी! मिथ्यादृष्टि भावना प्रभावना में जलता ..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
25-10-17 07:09 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे आत्मन ! आत्म सिद्धि करना चाहती हो तो जैसे पंख..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
24-10-17 07:12 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे वैरागी! जड़ तत्व अचेतन तन की सुरक्षा के लिए मौल..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
30-09-17 10:05 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे आत्मन ! मोन से मनोबल बुद्धिबल शारीरिक बल और आ..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
29-09-17 10:09 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे विज्ञात्मन्! में आज यहाँ कल कहांं रहु, ..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
28-09-17 10:10 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे विज्ञात्मन्! में आज यहाँ कल कहा रहु, ..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
27-09-17 10:13 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे योगी ! चित्र की प्रभावना इत्र के समान उड़ जाती ह..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
26-09-17 10:17 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे सिद्ध स्वरूपी ! देवालय मे गूंजती, ओमकार ध्व..

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से
25-09-17 03:47 am

श्री दिग. जैन मंदिर जोधपुर से गुरू मां की डायरी से

हे विज्ञात्मन! आज ऋमणी अवस्था में तेरे पास जो आ..