निज चितवन

  • Home
  • निज चितवन
गुरु माँ की डायरी से  जयपुर से
20-12-19 12:07 pm

गुरु माँ की डायरी से जयपुर से

हे बिहारी! आयु कम है, शक्ति सिमित है समय कम है,काम ..

गुरु माँ की डायरी से  जयपुर से
19-12-19 12:09 pm

गुरु माँ की डायरी से जयपुर से

हे विज्ञात्मन! तेरे दुख मुल कारण अनादि अविज्ञा..

गुरु माँ की डायरी से  जयपुर से
18-12-19 12:12 pm

गुरु माँ की डायरी से जयपुर से

हे योगीराज! जिस प्रकार दाल से रहित सिर्फ सुफा स..

गुरु माँ की डायरी से  जयपुर से
17-12-19 12:16 pm

गुरु माँ की डायरी से जयपुर से

हे विज्ञात्मन! जिस प्रकार गाय दिन में भोजन(घास..

गुरु माँ की डायरी से
        गुरु लसाडिया राजस्थान मे विराजमान है
11-12-19 09:25 am

गुरु माँ की डायरी से गुरु लसाडिया राजस्थान मे विर..

हे विज्ञातमन! दर्पण वत् जीओ! जिसमें स्वागत (अह..

गुरु माँ की डायरी से
        गुरु किशनगढ राजस्थान मे विराजमान है
19-11-19 09:03 am

गुरु माँ की डायरी से गुरु किशनगढ राजस्थान मे विरा..

यूं ही न अपने मिजाज* *को चिड़चिड़ा कीजिये,* *अगर कोई बा..

गुरु माँ की डायरी से
        गुरु फागी  राजस्थान मे विराजमान है
16-11-19 08:16 am

गुरु माँ की डायरी से गुरु फागी राजस्थान मे विराजम..

हे निष्पृही आत्मान! जैसे तेल युक्त पीपा,सामग्री से..

गुरु माँ की डायरी से
        गुरु फागी  राजस्थान मे विराजमान है
15-11-19 03:32 am

गुरु माँ की डायरी से गुरु फागी राजस्थान मे विराजम..

हे त्यागी ! जैसे मनुष्य मल व शवास का, गाय दुध का ..

प.पू गणिनी आर्यिका गुरु माँ किशनगढ़ राज. मे विराजमान है गुरु माँ की डायरी से ...।
22-10-19 09:32 am

प.पू गणिनी आर्यिका गुरु माँ किशनगढ़ राज. मे विराजमान है..

श्री विमलनाथाय नमः हे विज्ञात्मन ! चाणक्य ने प्..

श्री दिग. जैन मन्दिर किशनगढ़ से गुरु मां की डायरी से
17-10-19 01:13 pm

श्री दिग. जैन मन्दिर किशनगढ़ से गुरु मां की डायरी से

श्री पुष्पदंताय नमः हे विज्ञात्मन् ! जैसे औषध..

श्री दिग. जैन मन्दिर किशनगढ़ से गुरु मां की डायरी से
16-10-19 01:41 pm

श्री दिग. जैन मन्दिर किशनगढ़ से गुरु मां की डायरी से

हे विज्ञात्मन् ! जैसे फोड़ा-फूंसि, खाज-खुजली अप..

      श्री दिग. जैन मन्दिर किशनगढ़ से गुरु मां की डायरी से
15-10-19 01:43 pm

श्री दिग. जैन मन्दिर किशनगढ़ से गुरु मां की डायरी से

श्री अभिनन्दनाथाय नमः हे विज्ञात्मन् ! जैसे ज..