विनयांजलि

  • Home
  • विनयांजलि
Add
anil kumar jain
purulia

Saroj Lata Jain
Panchkula

माता वंदामि माता जी वंदामि माता जी वंदामि जय हो जय हो जय हो गुरू मां सूर्य के समान अज्ञान रूपी अंधकार को मिटाने वाली शक्ति है गुरु मां वो भरोसा है जो कभी टूटता नही है गुरु मां वो नशा है जो कभी छूटता नही है हर पल मंदिर जी मे ये कैसी जय जय कार है नित्य हो रहे हैं नये नये चमत्..

Show More

ार गुरु मां आपका क्या कहना आपकी शांत मुद्रा का क्या कहना गुरु मां आपके दिव्य दृष्टि का क्या कहना जिस पर टिक गई उसकी तो वल्ले वल्ले हो गई यानि आपकी मेहरबानी हो गई शुक्रिया माता जी के चरणों में शत शत शत वंदामि

25-02-2020 01:53 am

हे ज्ञानमूर्ति विज्ञाश्री मां आप अपने आध्यात्मिक ज्ञान से मानव जीवन की प्रतिकूलताओं को अनुकूलता में बदलने की शिक्षा देती हैं अतः आपकी ज्ञान प्रतिभा के लिए मेरा मन सदैव विनत है। आपमें श्रुत का महान ज्ञान होते हुए भी अभिमान का तिल तुषमात्र भी नहीं है।विनयगुण प्राप्ति के लिए आप..

Show More

को त्रियोगपूर्वक वन्दामि।मेरा मन वचन काय से आपको शत् शत् नमन।

25-02-2020 12:32 am
मोनिका जैन
गाजियाबाद

vijay kumar jain
chaksu

वियांजली प्रतियोगिता बंद कर दी गई है