विनयांजलि

  • Home
  • विनयांजलि
Add

Mehndi achchhi ho to rang lati h Ragini achchhi ho to dil ko bhati h Dosti nadan ho to tut jati h pr Mata g aap jaisi ho to Ithihaas bnati h. Vandami mata g.

Nidhi Jain
Jurehra Bharatpur

मोनिका जैन
गाजियाबाद

विज्ञामां हम सबकी आराध्य और स्तुत्य हैं जिनके द्वारा हम तीर्थंकर भगवन्तों की वाणी का परिज्ञान कर अपने जीवन को समुन्नत बना सकते हैं।जिस प्रकार जहाज के बिना समुद्र नहीं तिरा जा सकता है उसी प्रकार गुरु के बिना संसाररुपी समुद्र नहीं तिरा जा सकता है।भव रुपी समुद्र को पार करने के ल..

Show More

ए गुरु नौका के समान है।वैभव,विनय, विद्या,विवेक,निर्मल यश,बुद्धि और सम्पत्ति आदि गुरु भक्ति से ही प्राप्त होते हैं। गुरु मां का वात्सल्यपूर्ण दिशा निर्देशन ही भक्तों के जीवन रुपी मंदिर पर कलशारोहण कराने हेतु सबसे बड़ी सौगात है। गुरु प्रज्ञारुपी चक्षु प्रदान करने में समर्थ है। ऐसी गुरु विज्ञाश्री मां को सादर प्रणाम🙏

20-02-2020 08:20 am

पथभ्रमित दर दर भटकते जीव का संबल हो तुम अध्यात्म की अनुपम मणि कलिकाल की नवज्योति तुम वैराग्य की उत्कृष्ट स्वामिनी हो स्वंय इतिहास तुम हे मां चरण तेरे पखांरु स्वंय शारद मात तुम रजत दीक्षा महोत्सव के शुभ अवसर पर गुरु मां को शत् शत् नमन🌹

मोनिका जैन
गाजियाबाद

मोनिका जैन
गाजियाबाद

परम पूज्य गुरु मां विज्ञाश्री की गुरु भक्ति विशेष है देती रहती सदुपदेश है, इनमें खूब भरी करुणा है प्रेम अहिंसा दया क्षमा है ,पूज्य पवित्र सदा तन मन है सागर सम गंभीर वचन है ,आगम के अनुसार क्रिया हैं परंपरा से डिगते जन को ,देती हैं संबोधन उसको देती रहती शिक्षा सबको जिनवचनों पर श्रद्..

Show More

धा रखो माताजी में गुण बहुत शब्दों में न समाय कृतियां रची अनेक,मिली अनेक उपाधियां विराग सिंधु की परंपरा के लिए सदा तन मन अर्पित है कभी मुझे मिल जाए यदि शब्दों का भंडार करुं मैं तभी सुंदर ग्रंथ तैयार यही प्रार्थना करें प्रभु से रहे स्वस्थ दीर्घायु सदा ये वंदामि माताजी

20-02-2020 07:30 am