विनयांजलि

  • Home
  • विनयांजलि
Add

रोती हुई आंखो को मेरी गुरु मां हसाती हैं, जब कोई नहीं आता मेरी गुरु मां ही आती हैं,,, जिन नज़रों को मैया इक आंख ना भाता था करते थे सभी पर्दा जब में मिल जाता था, अब वो ही गले लगकर अपनापन जताते हैं,, जब कोई नहीं आता मेरी गुरु मां ही आती हैं

Preeti Bansal. w/o virendra
Preeti Bansal. w/o virendra
jaipur

Rajkumar jain Temani
Malpura

पूरे होने लगे हैं हर खवाब काँटे हट गयें हैं राहो से और बिछ गये हैं गुलाब जो ना पूछते थे ख़ैरियत वो पूछते हैं,कैसे हो जनाब ये तो खासियत है मैरे गुरू मा कि जब देती है तो देती हैं बे हिसाब ⭐⭐⭐⭐⭐⭐ गुरू मा के चरणों में बारम्बार वनदामि 💥💥💥☝️☝️☝️💥💥💥↗️↗️


विज्ञा Siri man Tumne kholie e Dharm Pathshala jismein baithega kismatwala vigya Shri नाम की। चाबी से। खुल जाएगा। किस्मत का ताला।

shashi jain
chandigarh

मोनिका जैन
गाजियाबाद

हे शिवपथप्रदर्शिका मां विषम परिस्थितियों में भी मेरु पर्वत के समान निश्चल रहकर धैर्य का पाठ पढ़ाने वाली हे वात्सल्यवारिधि ! आपको ह्रदय की गहराइयों से मेरा प्रणाम है।प्रतिक्षण अभिक्ष्ण ज्ञानोपयोग में लीन रहने की शिक्षा देने वाली हे ज्ञानसरिता ! आपके चरणों में शतश: नमन।विराग ..

Show More

ाहिनी उपवन की सजग प्रहरी आपके पवित्र चारित्र को नित्य वंदन है।हे ज्ञानपुंज ! आपके गहन ज्ञान का अंश प्राप्त करने हेतु आपकी ज्ञान गरिमा की मैं वंदना करती हूं।आपकी निरंतर छत्रछाया प्राप्त करने हेतु मंगल भावना है। मां मैंने आपसे सब कुछ प्राप्त ही किया है उसके बदले में मैंने आपको दिया कुछ भी नहीं है, इस अकिंचन का नमन स्वीकार कर लिजिए तो मैं धन्य हो जाऊंगी।🌹🌹🌹🌹

24-02-2020 04:12 am