विनयांजलि

  • Home
  • विनयांजलि
Add

मेरे घाव पे गुरु मा आप कोई मलहम लगा देना मुझे निज आत्म रस अनुभव यहां थोड़ा पिला देना आपके बिना मै अब तक जी रही मुरझाई फूल जैसी ये दोनो हाथ रख सर पे मेरे आत्म कलियाँ खिलाफ देना

monika Jain
Shri Ram Lal Jain Sandeep Kumar Jain Kirana Merchant Chhote Jain Mandir Ke Samne chhaprauli Baghpat

Nitu Jain
jhilai

जब मैंने होश संभाला तो आपको करीब पाया है। मेरा बिखरा हुआ जीवन गुरु गुरु मां सजाया है। हमने कई लोगों को अपना बनाया इस संसार में गुरु मां। बाकी तो सब दगा दे गए वक्त पर गुरु मांआपने ही साथ निभाया है । 🙏🙏🙏 वन्दामि गुरु मां


पढ़ना जानती हूं, किन्तु बिना प्रकाश क मैं पढ़ नही सकती। प्रभु अंत:स्थित हैं, किन्तु बिना गुरु रूपी प्रकाश पुंज के प्रभु से मैं मिल नही सकती। 🙏वन्दामि माताजी🙏

Nikita Jain
Jaipur

Rajkumar jain Temani
Malpura

बंद किस्मत के लिए क़ोई ताली नहीं होती। सुखी उमिदो की कोई डाली नहीं होती ।। जो झुक जाये गुरू मा के चरणों में। उसकी झोली कभी खाली नहीं होती