विनयांजलि

  • Home
  • विनयांजलि
Add

पलकें झूके आओर नमन हो जाए मस्तक झूठे आओर वंदन हो जाय ऐसी नज़र कहां से लाऊंगा कि तुझे याद कर आओर तेरा दर्शन हो जाए गुरु मां को शत शत-शत वन्दामि

milap jain
kotaraj

milap jain
kotaraj

जीवन पथ की भटकन में गुरु मां राह दिखाती है भक्तों पे बरसता हे हर वो आशीर्वाद का सावन है सच्ची भक्ति करके देखो आशीष हदय‌ से पाओगे गुरु मां के पीछे चलकर इस भवसागर से तीर जाओगे श्रीमति कुसुम जैन तलवंडी कोटा


रजत दीक्षा महोत्सव हैं आया, लाया खुशियों की बौछार हैं। आओ चले सब मिलकर बड़ के बालाजी डूबने आनंद, भक्ति और मस्ती में, करे जिनसहस्त्रनाम महाकुंभ अनुष्ठान, ले गुरु माँ का प्यार और आशीर्वाद।। 🙏वन्दामि माताजी🙏

Nikita Jain
Jaipur

milap jain
kotaraj

जीवन पथ की भटकन में गुरु मां राह दिखाती है भक्तों पे बरसता हे हर पल वो आशीर्वाद का सावन है सच्ची भक्ति करके देखो आशीष सद्दय से पाओगे गुरु मां के पीछे चलकर इस भवसागर से तीर जाओगे मिलाप जैन कोटा राज