विनयांजलि

  • Home
  • विनयांजलि
Add
vidhi
muzaffarnagar

मोनिका जैन
गाजियाबाद

विज्ञाश्री मां मेरे मन मंदिर में आओ शुद्ध ह्रदय से करूं विनती आतम ज्ञान सिखाओ पर परणित तज निज परणित का सच्चा भान कराओ जीवन धन्य बनाऊं अपना ऐसी राह सुझाओ कर्म जटिल हैं संग न छोड़ें इनसे मुझे बचाओ करके दया वृद्धि मुझ पर आवागमन मिटाओ। 🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹


मूरत है बनी मां की प्यारी दुख नाश खुशी लाने के लिए गुणगान करे क्या कोई क्या कोई बखान करे महिमा छंदों गाथों में समाएगी किस तरह से मां की गरिमा पावन गुरु मां का रुप बहुत कोई ज्ञान स्व पर लाने के लिए अनुपम ही तरंग है भक्ति में पूजा में ह्रदय की निर्मलता झरता जो तेज है मुखड़े से हरने को..

Show More

है पातक कालुषता वाणी में मां की सार बहुत कोई भव से पार जाने के लिए भारत गौरव श्रमणी गणिनी आर्यिका रत्न विज्ञाश्री माताजी को शत् शत् वंदे

23-02-2020 04:38 am
मोनिका जैन
गाजियाबाद

मोनिका जैन
गाजियाबाद

कभी न कभी मुझे भी अपनी मंजिल मिल जाएगी वीतरागी ज्ञानी गुरु मिलीं शिवपथ भी मिल जाएगा करुणामय जिनकी दिनचर्या देख देख पग धरती हैं कभी किसी से किसी वस्तु की नहीं याचना करती हैं ऐसी गुरु मिलीं भला फिर कैसे भटका जाएगा धर्म दया है धर्म सत्य है संयम की महिमा भारी त्याग तपस्यामय जीवन हो ..

Show More

स जीवन की बलिहारी ऐसी गुरु मां पुण्य योग से हमें इस युग में मिली हैं हर भक्त मां के चरणों में श्रद्धा सुमन चढ़ाएगा। 🙏🙏🙏🙏

23-02-2020 02:56 am